हेमंत सोरेन क्यों हुए गिरफ्तार।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को किया गया गिरफ्तार कहां जा रहा है कि हेमंत सोरेन को जमीन घोटाले के मामले में गिरफ्तार कर दिया गया हेमंत सोरेन को ED ने किया गिरफ्तार।

हेमंत सोरेन को ED ने क्यों किया गिरफ्तार

कहां जा रहा है कि हेमंत सोरेन को जमीन के घोटाले में गिरफ्तार किया गया है अब हेमंत सोरेन झारखंड के मोर्चा के मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे अब आगे आपको चंपई सोरेन भारत के झारखंड के मोर्चा जो गठबंधन वाली है उसे संभालते हुए नजर आएंगे । हेमंत सोरेन ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है उन्हें जमीन घोटाले के मामले में अरेस्ट कर लिया गया है। झारखंड मुक्ति मोर्चा नेता हेमंत सोरेन को प्रवर्तन निदेशालय ने जमीन घोटाले कीजिए सिलसिले में धन-धन निवारण अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया है।

और उन्हें ED में पेश किया जाएगा और कहां जा रहा है कि हेमंत सोरेन को 15 दिन के हिरासत मांगी जा सकती है। और अब कहां जा रहा है कि झारखंड के नए मंत्री चंपई सोरेन को दिया जाएगा। हेमंत सोरेन को 8 घंटे तक करीब पूछताछ के बाद ही गिरफ्तार किया गया। एक तरफ जहां हेमंत सोरेन को गिरफ्तार किया गया तो दूसरी तरफ राजनीति पूरा बदल चुका है।

झारखंड के मोर्चा मंडल अब चंपई सोरेन संभालेंगे

जैसे ही जैसे ही हेमंत सोरेन ने इस्तीफा दिया तो उसके बाद सामने आई चंपई सोरेन जो काफी चर्चा में थी अब उन्हें ही झारखंड मोर्चा मंडल संभालना पड़ेगा ऐसा लोग कह रहे हैं। लेकिन जब हेमंत सोरेन के इस्तीफा के समय बातचीत में हेमंत ने अपने पत्नी को इस मौसम मंडल को संभालने के लिए कह रहे थे वह अपनी पत्नी को आगे कर रहे थे मोटा वाला संभालने के लिए लेकिन लोग चाह रहे हैं कि उनकी पत्नी को संभालने नहीं दिया जाए अब मोर्चा मंडल चंपई सोरेन को संभलने दिया जाएगा। चंपई सोरेन हेमंत सोरेन के करीबी माने जाते हैं। क्योंकि हेमंत सोरेन के मंत्रिमंडल में दो परिषद उनके पास था। जब झारखंड के मौसम मंडल को संभालने की बात आई तो हेमंत सोरेन ने कल्पना सोरेन को कहा लेकिन कई विधायक उनके लिए तैयार नहीं थे और परिवार में अभी काफी फूट आया था और सीता सोरेन ने साफ ही कह दिया कि जब कल्पना सोरेन झारखंड के मुख्यमंत्री बन सकती है तो सीता सोरेन क्यों नहीं झारखंड के मुख्यमंत्री बन सकती है । ऐसे में जब पारिवारिक समझौता नहीं हुआ तो हेमंत सोरेन ने चंपई सोरेन को आगे किया और उन्होंने विधायक दल का नेता चुना।

चंपई सोरेन कौन है

चंपई सोरेन एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जिन्होंने प्रवर्तन निदेशालय द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी के बाद फरवरी 2024 से झारखंड के सातवें मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया है वह झारखंड मुक्ति मोर्चा के सदस्य हैं और विधायक के रूप में सरायकेला विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। देर रात के घटनाक्रम में झारखंड मुक्ति मोर्चा के jmm और सोरेन सरकार का समर्थन करने वाले विधायकों ने वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री चंपई सोरेन को विधायक दल का नेता चुना। झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता चंपई सोरेन हेमंत सोरेन के वफादार हैं और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शिवशरण के पिता के करीबी माने जाते हैं चंपई सोरेन झारखंड के कोल्हान क्षेत्र में से हैं जो बीजेपी का गढ़ माना जाता है।

झारखण्ड मुक्ति मोर्चा क्या है

झारखंड मुक्ति मोर्चा झारखंड का एक प्रमुख क्षेत्रीय राजनीतिक दल है जिसका प्रभाव झारखंड एवं उड़ीसा पश्चिम बंगाल तथा छत्तीसगढ़ के कुछ आदिवासी क्षेत्र शिबू सोरेन झामुमो के अध्यक्ष हैं झारखंड के लिए इसका चुनाव चिन्ह धनुष और बाण है।

Leave a Comment