Shri Ram Murti Ayodhya Photos: प्राण प्रतिष्ठा से पहले रामलला की पहली तस्वीर देख लोगो के मुख से निकला जय श्री राम….

22 जनवरी को अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा होने वाला है प्राण प्रतिष्ठा होने से पहले ही अयोध्या में राम लाला के प्रतिमा की पहली पूरी तस्वीर सामने आई जिसमें दिखाया गया है कि कल पत्थर से बने मूर्ति में भगवान का स्वरूप दिखाया गाया है। हालांकि कपड़े से उनकी आंखें ढकी हुई है। इस तस्वीर को देख हर कोई खुश हो रहे हैं लोगों के दिलों में उत्सुकता जाग उठी है।

अयोध्या राम मंदिर की मूर्ति किसने बनाई है ?

मूर्ति से जुड़ी कुछ खास बातें रिपोर्ट के मुताबिक इस मूर्ति को मैसूर स्थित मूर्तिकार अरुण योगीराज ने तैयार किया है इसकी ऊंचाई करीब 51 इंच और इसका वजन 150 किलोग्राम बताया जा रहा है इस मूर्ति को काले पत्थर से तैयार किया गया है। भगवान राम की मूर्ति इतनी खूबसूरत बनाई गई है कि इसमें भगवान के चेहरे पर गजब का तेज नजर आ रहा है साथ ही बच्चे जैसी मासूमियत भी नजर आ रही है। अरुण योगीराज प्रसिद्ध मूर्तिकार योगीराज शिल्पी के बेटे हैं अरुण मैसूर मॉल के कलाकारों के परिवार में से आते हैं इन्हीं के द्वारा बनाए गए भगवान राम की मूर्ति है।

राम जी की मूर्ति काले रंग की क्यों बनाई गई है

सभी के मनों में यह सवाल उठ रहा है कि अयोध्या राम मंदिर की मूर्ति श्याम रंग की क्यों है। आखिर क्यों राम मंदिर में श्याम रंग की मूर्ति लगाई गईं हैं। आपको जानकारी के लिए बता दे की श्री प्रभु राम सावले रंग के थे ऐसा रामायण में कहा गया है। इसीलिए इस रंग की मूर्ति को ज्यादा महत्व दिया गया है।भगवान श्री राम की स्तुति मंत्र में भी कहा गया है: नीलाम्बुजश्यामलकोमलाङ्गं सीतासमारोपितवामभागम। पाणौ महासायकचारूचापं, नमामि रामं रघुवंशनाथम॥ इसका मतलब होता है की उनका शरीर नीलकमल और श्यामल था और उनके बायीं ओर सीता विराजमान थीं

रामलाल की मूर्ति को गर्भगृह में रखा गया है

बुधवार की रात मूर्ति को मंदिर में लाया गया था अभिषेक समझ से जुड़े पुजारी अरुण दीक्षित ने बताया गुरुवार दोपहर को इसे गर्भगृह में रखा गया। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने मूर्ति को स्थापित करवाने में प्रधान संकल्प किया प्रधान संकल्प का मतलब है कि भगवान राम के प्रतिष्ठा सभी के कल्याण के लिए राष्ट्र के कल्याण के लिए मान्यता के कल्याण के लिए और उन लोगों के कल्याण के लिए भी किया जा रही है जिन्होंने मंदिर बनाने के कार्य में अपना योगदान दिया।

23 जनवरी को जनता लोग पूजा करने जा सकते हैं।

22 जनवरी को मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसके अगले दिन मंदिर जनता के लिए खोले जाने की उम्मीद है मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह के अनुष्ठान पहले ही शुरू हो चुके हैं ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सोमवार को यहां संवाददाताओं से कहा था कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह दोपहर 12:20 बजे शुरू होगा और 22 जनवरी को दोपहर 1:00 बजे तक पूरा होने की उम्मीद है।

Leave a Comment