WPL 2024 चमकी आगरा की बेटी दीप्ति शर्मा के समर्थन और खुद की मेहनत से बनाई दुनिया WPL में रचा इतिहास आईए जानते हैं दीप्ति शर्मा की कहानी

भारतीय महिला क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर और अर्जुन अवार्ड से सम्मानित दीप्ति शर्मा इन दिनों महिला प्रीमियर लीग के दूसरे सीजन में खेलती नजर आ रही है यूपी वॉरियर्स के लिए खेलते हुए स्टार खिलाड़ी एक नया रिकॉर्ड स्थापित किया। वह इस लीग के इतिहास में हैट्रिक विकेट चटकाने वाली पहली भारतीय बन गई गेंदबाज बन गई है दीप्ति शर्मा ने यह करना वहां दिल्ली के खिलाफ 8 मार्च को खेले गए मैच में किया था उनके इस घातक प्रदर्शन के दम पर अप ने इस मुकाबले को एक रन से जीत लया हालांकि उनकी टीम प्ले ऑफ की रेस से बाहर हो गई।

भाई से मिला समर्थन

दीप्ति को इस मुकाम तक पहुंचने में उनके भाई सुमित का अहम योगदान रहा। उन्होंने छोटी उम्र में ही बहन की प्रतिभा को पहचान लिया था दीप्ति ने 9वर्ष की आयोग में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। रेलवे में कार्यरत पिता भगवान और सुशील शर्मा का उन्हे भरपूर सहयोग मिला। दीप्ति के भाई सुमित गेंदबाज रहे हैं और अंडर-19 और अंदर 23 में यूपी में की तरफ से खेल चुके हैं। भाई से मिली मदद और कड़ी मेहनत के दम पर दीप्ति शर्मा आज पूरी दुनिया में देश का नाम रोशन कर रही है।

नवंबर 2014 में सही साबित हुआ फैसला

एक इंटरव्यू में सुमित शर्मा ने बताया था कि नवंबर 2014 में जब उन्हें यह सूचना मिली कि दीप्ति को भारतीय महिला क्रिकेट टीम में स्थान मिला है तो वह खुशी से झूम उठे थे। उन्होंने कहा उस दिन मेरा नौकरी छोड़ने का फैसला सही साबित हो गया दरअसल सुमित अपनी बहन को अभ्यास के लिए सुबह और शाम मैदान पर ले जाते थे। ऐसे में उन्होंने नौकरी छोड़ दी थी। उन्होंने कहा स्टेडियम में सुबह और शाम बहन को अभ्यास के लिए ले जाने की शपथ लेते हुए मैंने नौकरी से त्यागपत्र दे दिया।

Leave a Comment